भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिन और रात / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बीते दिन तो आए रात,
रात ढले, हो जाय प्रभात।
करते हैं सब दिन में काम,
और, रात मीन बस आराम।
[रचना : 15 मई 1996]