भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिन जुदाई का दिया वस्ल की शब के बदले / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिन जुदाई का दिया वस्ल की शब के बदले
लेने थे ऐ फ़लक-ए-पीर ये कब के बदले

राहत-ए-वस्ल किसी को तो किसी को ग़म-ए-हिज्र
सब्र ख़ालिक़ ने दिया है मुझे सब के बदले

इतनी सी बात पे बिगड़े ही चले जाते हो
ले लो तुम बोसा-ए-लब बोसा-ए-लब के बदले

फ़ुर्क़त-ए-यार में जीने के उठाए इल्ज़ाम
मौत आई न मुझे हिज्र की शब के बदले

आज अग़्यार 'वफ़ा' से न उलझ बैठे हों
तौर आते हैं नज़र बज़्म-ए-तरब के बदले।