भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिन ढलते ही जब हर छत से हर आंगन से चले उजाले / मेहर गेरा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
दिन ढलते ही जब हर छत से हर आंगन से चले उजाले
उम्मीदों की किरनें बनकर मेरे दिल में पले उजाले

तेरे रूप ने सूरज की किरनों को भी रूमान सिखाया
तेरे जिस्म को छूने वाले हैं कितने मनचले उजाले

दर से, रोजन से, खिड़की से, मेरे कमरे में आ पहुंचे
ये कुछ मेरे दर्द को समझें, हैं शायद दिलजले उजाले

पौ फटते ही आ जाते हैं चुपके से ये मेरे घर में
मेरा दर्द बटानेवाले हैं कितने ये भले उजाले

अपना भेद यही जाने हैं, अपने की खुद पहचान हैं
जाने किस दुनिया से आये, किस दुनिया को चले उजाले।