भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिन हुवै का रात हुवै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिन हुवै का रात हुवै
एक थांरी बात हुवै

धरती रो रूं रूं तपै
जी भर बरसात हुवै

म्हारो मन शह समझसी
भलांई बा मात हुवै

थां थकां थांनै तरसां
कदै ना आ बात हुवै

अंधारै सूं कुण डरपै
हाथ में जद हाथ हुवै