भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिन / ओमप्रकाश सारस्वत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिन
लिख रहे हैं धुंध
कुंद हो रहा उजास
आस क्या करे?

पहाड़
पढ़ रहे हैं बर्फ
सर्द पड़ी रही उमंग
रंग क्या करे?

सूर्य
दे रहा दग़ा
जगा न भोर का हुलास
हास क्या करे?

रक्त
रेत पर लुटा
उगा न गंध न पराग
राग क्या करे?

धूप
बादलों में रोए
ढोए मिन्नतें हज़ार
प्यार क्या करे?