भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल्ली दूर है / अनिरुद्ध प्रसाद विमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल्ली दूर है
दिल्ली दूर रहेगी भी !
दिल्ली को छूने की तुम्हारी कोशिशें
दोस्तो सिर्फ सपना है।
वैसे तुम्हारा सपना देखना बुरा नहीं
देखो,
बीहड़ वनपथ पर
गांवों की लहलहाती फसलों के बीच
वह कौन है ?
जो गा रहा है
‘‘दिल्ली दूर है
जाना जरुर है’’
उससे पूछो ?
क्या वह दिल्ली जाकर लौट भी सकेगा ?
क्या कोई लौटा भी है अब तक ?