भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल-ए-बे-मुद्दआ है और मैं हूँ / 'हफ़ीज़' जालंधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल-ए-बे-मुद्दआ है और मैं हूँ
मगर लब पर दुआ है और मैं हूँ

न साक़ी है न अब वो शय है बाकी
मिरा दौर आ गया है और मैं हूँ

उधर दुनिया है और दुनिया के बंदे
इधर मेरा ख़ुदा है और मैं हूँ

कोई पुरसाँ नहीं पीर-ए-मुगाँ का
फ़क़त मेरी वफ़ा है और मैं हूँ

अभी मीआद बाकी है सितम की
मोहब्बत की सज़ा है और मैं हूँ

न पूछो हाल मेरा कुछ न पूछो
कि तस्लीम ओ रज़ा है और मैं हूँ

ये तूल-ए-उम्र ना-माकुल ओ बे-कैफ़
बुज़ुर्गो की दुआ है और मैं हूँ

लहू के घूँट पीना और जीना
मुसलसल इक मज़ा है और मैं हूँ

‘हफीज’ ऐसी फ़लाकत के दिनों में
फ़क़त शुक्र-ए-ख़ुदा है और मैं हूँ