भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल एक हों सभी के ये नफ़रत न कर सकी / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल एक हों सभी के ये नफ़रत न कर सकी
हों जायें दूर-दूर ये उल्फ़त न कर सकी

घर-घर बनाया रंजो-अलम की पनाहगाह
अम्नो-अमां का काम सियासत न कर सकी

मंज़र अजीब था वो तड़पते बशर की जब
ग़फ़लतशिआर भीड़ हिफ़ाज़त न कर सकी

इन रहबरों की शह से ही हर क़ौम दह्र में
रहकर भी साथ-साथ महब्बत न कर सकी

करके दिखा दिया है जो 'दरवेश' प्यार ने
वो काम काइनात में दौलत न कर सकी