भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल कमाले-शौक़ से है बे-क़रार इत्तिहाद / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल कमाले-शौक़ से है बे-क़रार इत्तिहाद
चश्मे-मुज़्तर है रहीने-इंतज़ारे-इत्तिहाद

देख कर चारों तरफ बे-एतिमादी की फ़ज़ा
किस तरह आंखों को आए एतिबारे-इत्तिहाद

काश अब काफ़ूर हो जाये शबे-तारे-निफ़ाक़
हम भी देखें जलवाए सुब्हे-बहारे-इत्तिहाद

इस हक़ीक़त से कोई इंकार कर सकता नहीं
है रवादारिए-बाहम पर मदारे-इत्तिहाद

हो के हम-आहंग फिर ए अन्दलीबाने-वतन
इस गुलिस्तां को बना दें नग़मा-ज़ारे-इत्तिहाद

मुल्क में हो जाए क़ायम इत्तिहाद आज ऐ 'वफ़ा'
हो अगर सब का चलन आमोज़गारे-इत्तिहाद।