भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल में फिर आग लगाती हैं चटकती कलियाँ / मेहर गेरा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
दिल में फिर आग लगाती हैं चटकती कलियाँ
रुत बदलती है तो अहसास बदल जाता है

फूल जलते हैं तो होती है फ़ना ख़ुशबू भी
दिल जो जलता है तो अहसास भी जल जाता है

मैं तो उस चांद की क़ुर्बत में रहा हूँ जिसको
इक नज़र देख के सूरज भी पिघल जाता है

दिल में हो प्यार का अहसास तो अपने हैं सभी
ये वो सिक्का है जो हर देस में चल जाता है।