भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल लगा कर लग गया उन को भी तनहा बैठना / ग़ालिब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल लगा कर लग गया उन को भी तन्हा बैठना
बारे अपनी बेकसी की हम ने पाई दाद याँ
 
हैं ज़वाल-आमादा अजज़ा आफ़रीनश के तमाम
मेहर-ए-गर्दूं है चराग़-ए-रहगुज़ार-ए-बाद याँ