भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल से लूंगा मैं काम रहबर का / इमाम बख़्श 'नासिख'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल से लूंगा मैं काम रहबर का
क्या पता चाहिए तेरे घर का

हाल लिखता हूं दीद-ए-तर का
मौज-ए-दरिया है तार मुस्तिर है

था जो यूसुफ़ख हुआ न वो भी अज़ीज़
क्या ब्रादर को ग़म ब्रादर का

मस्त कहते हैं जिसको अबर-ए-बहार
गोशा है मेरे दामन तर का

जब हुआ गौर में अज़ाब-ए-फ़शार
ध्यान आया किनार-ए-मादर का

यद-ए-बेज़ा से हाथ आई ये बात
हुस्न मुहताज कब है ज़ेवर का

फ़स्ल-ए-गुल में हो शौक़ से उरियां
वहशियों को हुक्म है पयम्बर का

उम्र-ए-जावेद छोड़ कर ली मौत
देखना हौसला सिकंदर का

नक़्श-ए-पा हो बजाए नक़्श-ए-जबीं
सर है मुश्ताक तेरी ठोकर का

वो सही क़द है मुझ से तलब-ए-दिल
सरो को शौक़ है सनोबर का

क्या है ‘नासिख़’ जवाब-ए-ख़त का जिक्र
न मिला एक पर कबूतर का