भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिव्यता / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूर्योदय का तेज
अपनी लालिमा बिखेरता मेरे चेहरे पर
अपनी आँखों को बन्द कर
मैं सबकुछ ख़ुद में ही समाहित करना चाहता हूँ
मेरी सारी अधूरी इच्छाएँ
मेरी अनिश्चिताएँ
मेरे सारे भ्रम
टूटी उम्मीदें, सारे गम
बहुत सारी उलझने
ये सब मानो जैसे सिमट कर मेरे अंतर्मन में विलीन हो रहे हैं
जैसे मेरे अंदर का मसीहा जगा कर
मेरे हौसलों को बढ़ा रहें हैं
मेरी चेतना कि लौ को और प्रखर बना रहें हैं।