भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीनदयाल कृपाल गुपाल बिना तुम संकट कौन हरेंगे / नाथ कवि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दीनदयाल कृपाल गुपाल बिना तुम संकट कौन हरेंगे।
धान लियौ बहुरे ने सभी कहौ कैसे बिचारेन के पेट भरेंगे।
‘नाथ’ किसान कौ मान बढ़ै और ज्ञान चढ़ै जब का न करेंगे।
काहे कौ सोच करौ मनमें अब भारत के दिन फेर फिरेंगे॥