भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीपशिखा / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लौ
जलीं है बरसों बरस
श्रृंखलाबद्ध
करती मानवता को प्रज्वलित
अकेली
तो कभी कोई साथ मिल जाता
हम इंसानों के
उत्थान-पतन के चक्र का दायित्व लिए
लौ
जलीं है बरसों बरस
श्रृंखलाबद्ध
कुछ दीपशिखा अब भी बाक़ी है
उन रोशनियों को अब जीवंत होना होगा
जलना होगा
मार्गदर्शन करना होगा
हमारे आज का
और आने वाले कल का।