भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीपोत्सव मिलन काव्य गोष्ठी, इंदौर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

'कविता कोश', अंतरा- शब्दशक्ति एवं 'मातृभाषा परिवार' के संयुक्त तत्वावधान और व्हाट्सएप ग्रुप 'काव्यप्रेमियों की महफ़िल परिवार' के आतिथ्य में एक शानदार दीप काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। एस.एन. गोयल (सीए) के ॐ साईं गोयल रिसोर्ट (निपानिया) इंदौर में एक से बढ़कर एक काव्य रचनाएँ देर रात तक सुनाई गई।

रिसोर्ट में रात्रि 8 बजे से देर रात तक चली इस काव्य गोष्ठी में लगभग 20 रचनाकारों ने काव्य पाठ कर आयोजन को सफल बनाया। सबसे पहले माँ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्ववलित किया गया। तत्पश्चात अतुल दवे (इंदौर) ने माँ शारदा की शानदार वन्दना प्रस्तुत की।

Deepotsava-milan-indore-kavitakosh-1.jpg

इस अवसर पर श्रीमति प्रीति सुराना, अजय जैन 'विकल्प', अर्पण जैन 'अविचल', सीए एस.एन.गोयल, नवीन नागर, हेमन्त बोर्डिया, जयकृष्ण चांडक, शीतल खंडेलवाल, अतुल दवे, पंकज प्रसून, डॉ. रवि बंसल, राम शर्मा परिंदा' सहित डॉ.अजय जैन (दिल्ली), शैलेन्द्र दवे, अरविंद पंड्या, सरजीव पटेल और नंदकिशोर कुशवाहा ने मनमोहक काव्यपाठ किया।

Deepotsava-milan-indore-kavitakosh-2.jpg

काव्यप्रेमियों की महफ़िल परिवार के दर्शन लीलानी, राम सिंघल, राधेश्याम शर्मा ने भी गोष्ठी में उत्साहवर्धन किया।

कैलाश सिंघल ने इसका सफल संचालन करते हुए श्रद्धेय माया गोविंद जी और डॉ. प्रभा ठाकुर के गीत और ग़ज़ल सुनाकर गोष्ठी का समापन किया। अंत में कविता कोश और मातृभाषा परिवार की तरफ से सभी कवियों को स्मृति चिन्ह देकर सफल आयोजन के लिए महफ़िल परिवार का भी आभार माना गया।

Deepotsava-milan-indore-kavitakosh-3.jpg