भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीया प्रेम के जलाओगा / विमल तिवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मया के बाती ले के
दीया प्रेम के जलाओगा

घर घर गली गांव
मिर जुल के सबझन।

दीया प्रेम के जलाओगा।
अज्ञान ल मिटाये बर

अंधकार ला भगाये बर
सहयोग ला बढ़ाये भर

प्रेम के दीया जलाओगा।
जगमग अंजोर करव

भेदभाव ला दूर करव।
गांव के भाग ला जगाओगा

प्रेम के दीया जलाओगा
सबके साथी दीया हे

सबके घर म बरे।
अंजोर करे बर

नई देखे छोटे बड़े।
सबके जिनगी म

अंजोर बगराये बार
दीया जलगें

दीया प्रेम के जलाओगा।