भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीवार / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पेड़ों की नंगी शाख़ों से
डर लगता है
दालानों में
दहलीज़ों पर
दम घुटता है
गिर पड़ने के डर से
नीचे कम झुकता है
पंखा सर पर गिर जाने का नाहक खौफ़ लगा रहता है
मैदानों में आसमान के गिरने का खदशा रहता है
बैठे-बैठे चल पड़ता है
चलते-चलते रुक जाता है
सब से खौफ़ज़दा रहता है
लेकिन
एक फुदकती चिड़िया को अक्सर तकता है
घर-घर में
उस का चर्चा है