भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीवालें / कंस्तांतिन कवाफ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बिना कान दिए, बिना रियायत, बिना शरम
उन्होंने मेरे चारों ओर दीवालें चिन दी,मोटी और ऊँची ।

और अब मैं यहाँ बैठ महसूस करता हूँ नाउम्मीदी ।
मुझे कुछ और सूझता नहीं: मेरा यह भाग्य कुतरता है मन -

क्योंकि कितना कुछ था बाहर करने को मेरे पास ।
जब वे चिन रहे थे दीवालों को, ओह ! क्यों नहीं मैंने तवज़्जो दी

लेकिन मैंने कभी नहीं सुना राजगीरों को, एक हलचल तक नहीं ।
उन्होंने मुझे बाहरी दुनिया से अलग बन्द कर दिया अननभूत तरह से ।
 
अँग्रेज़ी से अनुवाद : पीयूष दईया