भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दुःख / मदन कश्यप

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दुःख इतना था उसके जीवन में
कि प्यार में भी दुःख ही था

उसकी आँखों में झाँका
दुःख तालाब के जल की तरह ठहरा हुआ था

उसे बाँहों में कसा
दुःख पीठ पर दागने के निशान की तरह दिखा

उसे चूमना चाहा
दुःख होंठों पर पपड़ियों की तरह जमा था

उसे निर्वस्त्र करना चाहा
उसने दुःख पहन रखा था
जिसे किसी भी तरह उतारना सम्भव नहीं था !