भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दुआ / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 

             दुआ

यारब! गमे- दुनिया से इक लम्हे की फ़ुर्सत दे
कुछ फ़िक्रे-वतन कर लूँ इतनी मुझे मुहलत दे