भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दुई की बात जो दिल से निकाल देता है / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दुई की बात जो दिल से निकाल देता है
उसी को वो भी वक़ारो-जलाल देता है

उसे बशर न कहें जो ज़रा-सी बात पे ही
हर एक राज़ सरे-आम उछाल देता है

जो छाँव औरों को दे खुद कड़कती धूप सहे
किसी, किसी को ख़ुदा ये कमाल देता है

उरूज के लिए अपना ज़मीर खो देना
यही अमल तो बशर को ज़वाल देता है

न पास जा तेरी पहचान ही न खो जाये
'दरख़्त धूप को साये में ढाल देता है'

तमीज़ अच्छे-बुरे में न कर सका जो कभी
वही अब अच्छे-बुरे की मिसाल देता है

सुराग़ उजालों का वो पा ही लेता है 'दरवेश'
जो ख़ुद को अन्धी गुफाओं में डाल देता है