भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

दुकाळ / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बुझ्योड़ा चूल्हा
ऊंधी हांडिया
थाली थाळियां
घरां में
मिनख-लुगाई-टाबर करै अकासिया
               टेर देवै नाड़
पण
गांव रै बारै
नित गोठ करै
गिरज अर काग
रूच-रूच जीमै
नाचै-गावै
उच्छब मनावै ।