भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दुख केॅ खो, लोरे केॅ पी / नन्दलाल यादव 'सारस्वत'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दुख केॅ खो, लोरे केॅ पी
की करबे, हेन्है केॅ जी।

कोय नै पुछवैया ऐतौ
फटलोॅ जिनगी छौ तेॅ सी।

कौआ केॅ की लेना छै सेॅ
सुग्गा बोलै टें, टें, टी।

बैमानोॅ के चलती देखोॅ
पाँचो अंगुरी घीये-घी।

जे जिनगी मेॅ खाली स्वारथ
उ जिनगी केॅ दुर-दुर छी।

सारस्वते तेॅ आ-ई बोलै
नुनुआ बोलै ए, बी, सी।