भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दुख / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हारी जिंदगी मेम
इंयां चिप’र चाती हुयो है
दुखां रो डावड़ो
जिंयां कै
जेठ-असाढ में
सड़कां माथै रैवै
तावड़ो !