भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

दुनियां रो स्सो सुख / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थारी आंख्यां में चमक
होठां माथै मुळक
मांग में सिंदूर भर’र
टाबर नै गोदी में लियां
धणी कनै ऊभी तूं
म्हनै आ तो बता
दुनियां रो स्सो सुख
इत्तो ई है कांई ?