भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दुनिया का सबसे अजीबो गरीब जीव / नाज़िम हिक़मत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे भाई, एक बिच्छू की तरह
अँधेरे में बुजदिली से रहते
मुझे एक बिच्छू मालूम होते हो तुम !
कभी गौरैया की तरह फडफडाते, मेरे भाई
मुझे एक गौरैया लगते हो तुम !

मेरे भाई, सीप की तरह बन्द, सन्तुष्ट
तुम मुझे एक सीप से लगते हो
तो कभी सुप्त जवालामुखी के मुहाने से लगे
तुम भयभीत दिखाई देते हो, मेरे भाई

एक नही
पाँच नही
दुर्भाग्य से, अनगिनत बार

मेरे भाई, कहीं तुम भेड़ तो नही
जो चोगा पहने चरवाहे के छड़ी उठाते ही
तुरत अपने झुण्ड में जा मिलता है
और फ़िर दौड़ पड़ता है गर्व से, कसाईखाने की ओर !

मुझे लगता है,
तुम इस पृथ्वी के सबसे अजीबोगरीब जीव हो
उस मछली से भी अधिक अजीब
जो जल से भरे समन्दर को भी नही देख पाती

और इस दुनिया की कठोरता तो देखो
वह तुम्हारे प्रति कृतज्ञ है

और यदि हम आज भूखे हैं क्लान्त हैं, रक्त से तरबतर हैं
और यहाँ तक कि शराब के लिए हमें
यदि अंगूरों की तरह पीस दिया जाता है
तो इसके लिए सिर्फ़ तुम्ही दोषी हो
हालाँकि यह कहते हुए मुझे कठोर होना पड़ा है
किन्तु अधिकांश दोष तुम्हारा ही है, मेरे भाई

अंग्रेज़ी से अनुवाद : नीता पोरवाल