भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दुनिया रो दायरो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

होळै-होळै होग्यो
थारी-म्हारी
दुनिया रो दायरो दो बिलान

धरती म्हारो घर री ठौड़
है आज कमरो म्हारो घर
घर में बक्सो है
बक्सै में है चितराम
रूड़ा-रूपाळा
नागा-उघाड़ा
मिजळी सदी रो वरदान !