भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

दुविधा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिका बोलै
लोग बां नै गैला कैवै
अर जिका चुप रैवै
बां नै गूंगा
अबै
बोलां तो गत नीं
चुप रैवां तो गत नीं
बताओ तो सरी
कांई करां म्हैं ?