भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दूध बिखर गया है आकाश में / सर्गेइ येसेनिन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैसे दूध बिखर गया है दूर तक आकाश में,
और पनीर के टुकड़े-सा चाँद लटक रहा है।
यहाँ बात सिर्फ़ खाने-पीने की ही नहीं है
दिल में है दर्द मेरे, दिल कहीं भटक रहा है।

कुछ खाने का मन है, पर अब समय नहीं है
दाँतों पर कुरकुरा-सा कुछ कुरकुरा रहा है।
इन्तज़ार है ख़ुशी का, छोटी-सी एक हँसी का
हँसती है मेरी क़िस्मत, मेरा भाग्य मुस्कुरा रहा है।

जलती हुई बहुत-सी, कामनाएँ हैं मेरे मन में
पर आत्मा है रोगी बसी हुई इस तन में
समय आ गया है अब तो, ताबूत पे मेरे रख दो
क्वास औ’ खीर का कटोरा, जो रखते हैं कफ़न पे।

9 जुलाई 1916

मूल रूसी से अनुवाद : अनिल जनविजय

लीजिए, अब यही कविता मूल रूसी भाषा में पढ़िए
             Сергей Есенин
        Небо сметаной обмазано…

Небо сметаной обмазано,
Месяц как сырный кусок.
Только не с пищею связано
Сердце, больной уголок.

Хочется есть, да не этого,
Что так шуршит на зубу.
Жду я веселого, светлого,
Как молодую судьбу.

Жгуче желания множат
Душу больную мою,
Но и на гроб мне положат
С квасом крутую кутью.

9 июля 1916