भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

दूबळी नै मण भारो जिंयां / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दूबळी नै मण भारो जिंयां
कटै औ मिनख जमारो किंयां

हाथां सूं छिटक्यो सगळो सुख
खिंडग्यो हुवै पारो जिंयां

तकलीफां तो बणगी बेली
छीयां झालै लारो किंयां

भोर री बात आथण कूड़ी
करै कोई पतियारो किंयां

आंसू में भर्‌यो है समंद
थे पूछो भळै खारो किंयां