भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दूरियाँ / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज मैं दूर हूँ तुमसे
मीलों दूर
पर दिल को इस फासले का अहसास नहीं
मीलों लम्बी दूरी का फकऱ् दिल कहाँ महसूस कर पाता है
उसे हर आहट में तुम्हारी परछाईं की आस हैं
हवा के हर झोके में तुम्हारी ख़ुशबू की तलाश हैं
दिल को यक़ीन है तुम्हारे आने का
एक विश्वास है
दिल के बहाने मैं भी तुम्हारी खोज में हूँ
मैं जानता हूँ
मीलों दूर, इस वक़्त तुम गहरी नींद में हो
पर फिर भी
दिल की इस नादानी में शामिल हो
मुझे भी अब तुम्हारी तलाश हैं।