भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दूर तक दिखते वही दागे़ हुए चेहरे / विजय किशोर मानव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दूर तक दिखते वही दागे़ हुए चेहरे
हैं चलन में इन दिनों मांगे हुए चेहरे

रोज़ मरते, फड़फड़ाते हैं कैलेंडर से,
मुद्दतों से कील में टांगे हुए चेहरे

ऊंघते मिलते सुबह दरबार में बैठे,
रहज़नी में रात-भर जागे हुए चेहरे

हिंस्र पशुओं से घिरे देखे नहीं जाते
घर से लेकर ख़्वाहिशें भागे हुए चेहरे

आईने नारे लगाते रह गए पीछे
फूल-माला देखकर आगे हुए चेहरे