भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दूसरा / बालकृष्ण काबरा ’एतेश’ / ओक्ताविओ पाज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसने खोज निकाला
अपने लिए एक चेहरा
इसके पीछे
वह जिया,
वह मरा,
फिर हुआ जीवित
कई बार।

उस चेहरे की झुर्रियाँ
हैं अब उसके चेहरे पर।

उसकी झुर्रियों का
नहीं है कोई चेहरा।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : बालकृष्ण काबरा ’एतेश’