भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दृष्टियों / हरीश भादानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दृष्टियों !
भागते विस्तार की आहट सुनो,
गंध सूँघों,
गड़ी ही रहो
मर्मस्थली में,
पलक झपते ही
कहीं अलगा न जाए,
दृष्टियों !
साँचे ढले दर्पण
तुम्हारे सामने तैरा करेंगे
ठहरना मत,
उलझना मत
आकृतियों के जड़ाऊ व्यूह
सारे लाँघ जाना
सुनो
दर्पण पारदर्शी नहीं होते कभी भी !