भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देखती आँखों ने देखा है शबिस्तानों में / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देखती आँखों ने देखा है शबिस्तानों में
जज़्बा मरने का अभी ज़िंदा है परवानों में

कितना पुर-हौल है माहौल शब-ए-फ़ुर्क़त का
ख़ून भी ख़ुश्क हुआ जाता है शिरयानों में

काम आया न गला फाड़ता ऐ शैख़ तिरा
नज़र आती हैं वही रौनक़ें मय-ख़ानों में

सितम-ए-ताज़ा पे यूँ शुक्र-ए-सितम करता हूँ
जैसे इक और इज़ाफ़ा हुआ एहसानों में

ऐ 'वफ़ा' अहल-ए-ज़बाँ की है इनायत ये भी
कि शुमार आज हमारा है ज़बाँ-दानों में।