भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देखने का बोलना / लीलाधर जगूड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आँखों के देखे हुए को बताने के लिए
ज़ुबान को खोलने पड़ते हैं भाषा के ताले
देखना भी बोलने लगता है

अनुभूति का यह खेल अजब है
बातों ही बातों में पंक्ति दर पंक्ति बन जाती है
शब्दों की
कई-कई आँखें दिखने लगती हैं
कई-कई निगाहों के साथ ।