भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देखहुँ हो शिवशंकर योगी, अति विचित्र विरागी / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

देखहुँ हो शिवशंकर योगी, अति विचित्र विरागी
अंग भस्म सिर गंग सम्हारे, भाल चन्द्र विराजी
बूढ़ बरद पर करथि सवारी, भाङ-घथूर अहारी
कटि कोपीन पहिरि हर घूमथि, उपर बघम्बर धारी
अर्धअंग श्री गौरी राजे, देखितहिं मन भ्रमकारी
कार्तिक-गणपति दुइ जन बालक, तिनकहुँ गतिअति न्यारी
मोर-मूस चढ़ि ईहो दुहु घूमथि, घरके सुरति बिसारी
कहथि महारूद्र, भजहुँ एहि शिवकेँ, इहो छथि त्रिभुवन हितकारी