भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देखिए हमसे हुआ है यह कुसूर / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देखिए हमसे हुआ है यह कुसूर।
हर बात में कहा न गया, जी हुजूर!

वे रोयें-हंसें तो हम रोयें हंसे,
हमें कभी कबूल नहीं ये दस्तूर!

हम चल कर आयें, आप बात न करें,
हमसे सहा नहीं जाता यह ग़रूर।

साथ बैठकर हिक़ारत से न देखें,
आप बडे होंगे अपने घर जरूर!

आपकी सनक के ख़िलाफ खड़े हुए,
हमें भी आदमी होने का सुरूर!