भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देख बींद काणै-सो जीवन / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देख बींद काणै-सो जीवन
हंसै नगद नाणै-सो जीवन

आं तिरळवीं घाट्‌यां री सैल
है सांस गमाणै-सो जीवन

ना हब देणो बळै ना बुझै
है धुखतो छाणै-सो जीवन

रूपाळा जाळ बिछा’र अठै
चुगै लोग दाणै-सो जीवण

अस्सी घाव थकां औ जूझै
हुयो आज राणै-सो जीवण