भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देख ये हौसला मेरा, मेरे बुज़दिल दुश्मन / फ़राज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देख ये हौसला मेरा, मेरे बुज़दिल दुश्मन
तुझ को लश्कर में पुकारा , तन-ए-तन्हा हो कर

उस शाह-ए-हुस्न के दर पर है फ़क़ीरों का हुज़ूम
यार हम भी ना करें अर्ज़-ए-तमन्ना जा कर

हम तुझे मना तो करते नहीं जाने से 'फ़राज़'
जा उसी दर पे मगर, हाथ ना फैला जा कर