भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देख रूण-जाळ भायला / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देख रूण-जाळ भायला
मन भरै उछाळ भायला

ईं करड़ी चढाई पछै
मन भावै ढाळ भायला

मन एक हुवै तो लागै
मीठी आ गाळ भायला

तावड़ो घणो पण छीयां
थोड़ी-सी ताळ भायला

जलमैला कीं गीत अमर
प्रीत-पीड़ पाळ भायला