भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देर तक बारिश होती / शहरयार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शाम को इंजीर के पत्तों के पीछे

एक सरगोशी बरहना पाँव

इतनी तेज़ दौड़ी

मेरा दम घुटने लगा

रेत जैसे ज़ायक़े वाली किसी मशरूब की ख़्वाहिश हुई

वह वहाँ कुछ दूर एक आंधी चली

फिर देर तक बारिश हुई।


शब्दार्थ :

मशरूब=पेय