भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देव कहाँ छै? के जानै छै / नन्दलाल यादव 'सारस्वत'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दैव कहाँ छै? के जानै छै
जेकरा कानना छै; कानै छै।

सब्भे रेहू-कतला छानै
जोंकोॅ केॅ कौनें छानै छै।

केकरा यहाँ शिकायत करबौ
तोरा यैठां के जानै छै?

कुइयाँ केॅ भत्तै के मतलब
अपने जिनगी केॅ खानै छै।

वही सुखी छै, सुख सेॅ रहतै
जौने सुख मेॅ दुख सानै छै।

सारस्वतोॅ केॅ के पहचानेॅ
टके जहाँ सब पहचानै छै।