भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देशोॅ के हालत / अवधेश कुमार जायसवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देखी केॅ देशोॅ के हालत भैया
फाटै छै हमरोॅ कलेजा
कुछ्छु बोलै में डर लागै
मांटी देश केॅ रुतबा
दिन दहाड़े लाठी चमकै
भाला, फरसा, छूरा
पुलिस टुकुर-टुकुर ताकै छै
नाचै सड़क जम्हुरा
नेता आपनोॅ रोटी सेकै
भाड़ोॅ में जैतेॅ देश
तोंदू सेठवा मौज करै छै
पढ़लोॅ गेलै विदेश
केॅ सच्चा छै, केॅ छै झूठा
कुछ्छु समझोॅ में नै आबै
देखी केॅ देशोॅ के हालत भैया
हमरोॅ सर चकराबै।
वीर भगत केॅ बलिदान तेॅ
वेरथ में चल्लोॅ गेलै
भुखलोॅ, लोटै चुनमा-मुनियां
गली में दर-दर भटकै
पैसा वाला मौज करै छै
बीच सड़क पर भटकै
देखी केॅ देशोॅ के हालत भैया
सांस गला में अटकै।
एक्के विनती छै हमरोॅ हो भैया
देशोॅ केॅ खातिर सोचोॅ
जार-जार भारत माय कानै
एकरा आबेॅ नै नोचोॅ
दुशमनमा सब मुसकाबै छै
ताकोॅ में बैठलोॅ सोचै
लड़ी केॅ मरतै भारत वासी
हमरे शासन चलतै।