भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देह / देवी प्रसाद मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देह प्रेम के काम आती है।
वह यातना देने और सहने के काम आती है।

पीटने में जला देने में
आत्मा को तबाह करने के लिये कई बार राज्य और धर्म
देह को अधीन बनाते हैं

बाज़ार भी करता है यह काम
वह देह को इतना सजावटी बना देता है कि
उसे सामान बना देता है

बहुत दुःख की तुलना में
बहुत सुख से ख़त्म होती है आत्मा