भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोनों / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दो अनजाने
दो अजनबी
जब जि़न्दगी की राहों पर मिले
दोनों ने एक साथ बादलों को देखा
हवा के बहाव को महसूस किया
ठिठुरन भी थी दोनों के दिलों में एक सी
उनकी आँखों ने भी एक ही सपना बुना
ख़ामोशी की चादर ओढ़े रातों में
एक-सी ख़्वाहिश थी दोनों के मन में
साथ जि़ंदगी गुजारने की
एक दूसरे के पूरक बन
कुछ अलग-सा करने की
जो कभी किसी ने सोचा नहीं
जो कभी किसी ने किया नहीं
वो दोनों बिलकुल एक से थे...