भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोपहर की रात / अभिमन्यु अनत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यहाँ दोपहर में रात हो गयी
गुलर का फुल खिलकर काफुर हो गया
गिद्ध के डैनों के नीचे
गोरैया की जिन्दगी कानून बन गयी
कैक्ट्स के दाँतों पर खून का दाग आ गया।
पंखुड़ी से फिसल कर
चांदनी अटक गयी है कांटों की नोक पर
ओस की लाल बूँदों पर
काली रात तैरती रह गयी।

उजाले के गल गये तन पर
काला कुत्ता जीभ लपलपाता रहा
गंधलाती रही सूरज की लाश
काली चादर के भीतर
अंधे दुल्हे ने काजल से
भर दी मांग दुल्हन की
यहाँ दोपहर में रात हो गयी
सुहाग-रात बन्द रह गयी
सिदरौटै के भीतर