भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोपहर है बहुत घाम है / विजय किशोर मानव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दोपहर है, बहुत घाम है
ज़िंदगी है, बहुत काम है

पांव से सौ थकानें बंधीं
और चलना सुबह-शाम है

रोज़ अख़बार में छप रहे पर
स्याहियों में दबा नाम है

गर्म है रात भी, चांदनी भी
सिर्फ़ भ्रम है कि आराम है

चित्र हैं हर तरफ़ शांति के
पर रंगा एक कुहराम है