भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोस्ती / बालकृष्ण काबरा ’एतेश’ / ओक्ताविओ पाज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेज़ पर
प्रतीक्षा ही प्रतीक्षा
अन्तहीन

लैम्प की महीन रोशनी में
रात
खिड़की को बना देती विशाल

कोई नहीं यहाँ
एक गुमनाम उपस्थिति ने
घेरा
चारों ओर से मुझे

अँग्रेज़ी से अनुवाद : बालकृष्ण काबरा ’एतेश’